Friday, October 7, 2022

Used Bike Guide : पुरानी बाइक को खरीदने से पहले चेक करें ये चीजें, मिलेगी बेस्ट डील!

आप जिस बाइक की सवारी करने की योजना बना रहे हैं, उसके लिए बेहतर विकल्प को चुनने के बाद अपने आप से पूछें कि आप बाइक का उपयोग कैसे और किस उद्देश्य से करेंगे और फिर अपनी खोज को उसी के अनुसार ढालें।

Used Bike Guide : देश में इन दिनों नई बाइक खरीदने वाले लोगों के साथ पुरानी बाइक के खरीदारों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है, और यदि आप अपने लिए एक बाइक लेने की सोच रहे हैं, लेकिन इसके लिए एक मोटी रकम खर्च करना नहीं चाहते हैं, तो इस्तेमाल की गई बाइक यानी यूज्ड बाइक खरीदना एक अच्छा विकल्प हो सकता है। इसके लिए सबसे पहले अपना मन बनाएं और जानें कि जिस बाइक पर आपकी नजर है, उसकी कीमत क्या है, और यह आपके बजट पर कितना असर डालेगी। इन दो बातों के अलावा आपको समझने की जरूरत है, कि बाइक में कहीं कोई खराबी तो नहीं है। अगर आप भी इस बात को लेकर असमंजस में हैं, कि कौन सी ऐसी चीजें होती हैं, जिन्हें बाइक खरीदते समय ध्यान रखना चाहिए। तो हम यहां आपको कुछ टिप्स बताने जा रहे हैं।

यूज्ड बाइक खरीदने से पहले चेकलिस्ट पर करें टिक

आप जिस बाइक की सवारी करने की योजना बना रहे हैं, उसके लिए बेहतर विकल्प को चुनने के बाद अपने आप से पूछें कि आप बाइक का उपयोग कैसे और किस उद्देश्य से करेंगे और फिर अपनी खोज को उसी के अनुसार ढालें। जाहिर है, हर चीज की तरह इस पर भी रिसर्च जरूरी है, तो ऑनलाइन जाएं, बाइक के बारे में जानने के लिए कुछ विशेषज्ञों या मकैनिकों से बात करें। इतना ही आप अपने लेवल पर जाकर भी पेंट, खरोंच, किसी भी तरह के fluid लीकेज, टायर या किसी भी टूट-फूट की जाँच कर सकते हैं। सामान्य तौर पर आप बाइक के बाहरी शरीर की जाँच अपने आप अच्छी तरह से कर सकते हैं, हालांकि इसके लिए आपको इस पर पैनी नजर रखने की जरूरत है। ज्यादात्तर बाइक में ड्रम ब्रेक होते हैं। तो, ब्रेक को भी अच्छे से जांचने की जरूरत होती है। इसके बाद आते हैं, सर्विसिंग रिकॉर्ड। इसके लिए बाइक खरीदने से पहले मालिक से जांच लें कि उसने बाइक कितनी बार सर्विसिंग के लिए दी है, और इसके पीछे क्या वजह रही है।

कागजात, वारंटी और स्पीड की जांच भी जरूरी

बाइक के बारे में अधिक जानकारी के लिए आप बाइक के VIN नंबर को स्कैन करें। इसमें वाहन पहचान संख्या एक अद्वितीय सीरियल नंबर है जिसका उपयोग कानूनी रूप से किसी वाहन की पहचान करने के लिए किया जाता है। ज़्यादातर बाइक्स पर यह नंबर फ़्रेम के स्टीयरिंग नेक सेक्शन पर, हेडलाइट के ठीक पीछे VIN पर मिल जाएगा। यह सुनिश्चित करने के लिए कि यह नंबर आरसी से मेल खाता है। बाइक की रोशनी पर भी नजर डालें और देखें कि हेडलाइट बल्ब, इंडीगेटर और टेल लाइट काम करने की स्थिति में हैं, और सही रोशनी प्रदान कर रहे हैं, इस चीज पर भी गौर करें। अब सबसे अहम बात आती है, कागजात। आरसी बुक, बाइक बीमा, बाइक बीमा की वैधता, प्रदूषण प्रमाण पत्र, मूल चालान, एक्सटेंड वारंटी (यदि कोई हो) इन सभी को अच्छी से चेक करें। इसकी जानकारी आप कई सरकारी वेबसाइट के माध्यम से भी ले सकते हैं। वहीं बाइक की स्पीड, माइलेज की जांच करने के लिए एक लॉन्ग राइड लें और चेक करें कि आप इसके परफॉर्मेंस से खुश हैं या नहीं। इन सभी चीजों से जब आप सहमत हो जाएं तो स्थानीय मैकेनिक से बात करें – भले ही आपने अपनी सेकेंड-हैंड बाइक किसी निजी पार्टी से खरीदने का फैसला किया हो, लेकिन किसी भी तरह का एग्रीमेंट करने से पहले किसी तीसरे व्यक्ति से पूछना एक समझदारी का निर्णय हो सकता है। ध्यान दें, कि एक बार जब आप एक इस्तेमाल की गई बाइक को लेने का मन बना लेते हैं, तो बाइक को अपने मकैनिक को जरूर दिखाएं। ऐसा करने के बाद, अब सभी कागजी कार्रवाई को पूरा करने का समय है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

twenty − twelve =

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments