Friday, October 7, 2022

चलते हुए स्कूटर पर लैपटॉप से काम! बेंगलूरु के व्यक्ति का वीडिया हुआ वायरल

हम एक व्यक्ति को अपने लैपटॉप पर काम कर रहे होंडा एविएटर पर बैठे हुए देख सकते हैं, स्कूटर सड़क के किनारे भीड़भाड़ वाले ट्रैफिक के बीच खड़ा है, और पीछे बैठा व्यक्ति अपने लैपटॉप पर काम कर रहा है।

भारतमें कोविड के दौरान घर से काम करना अनिवार्य किया गया और कई कॉर्पोरेट कार्यालयों में कर्मचारियों से डेडलाइन देकर काम कराया जाता है। इस बीच कर्मचारियों के पास ‘जितनी जल्दी हो सके’ काम पूरा करने के अलावा कोई विकल्प नहीं है। ऐसा ही एक ममाला आजकल चर्चा में है, जिसमें एक फ्लाईओवर के किनारे स्कूटर पर काम कर रहे एक व्यक्ति की तस्वीर वायरल हो गई है। बेंगलुरु से वायरल हुई यह तस्वीर देखते ही देखते इंटरनेट पर छा गई।

यह भी पढ़ें :- Maruti Grand Vitara दो वैरिएंट में होगी लॉन्च, मिलेगा 25kmpl का माइलेज, लॉन्च से पहले लीक हुई डिटेल

Viral Photo

क्या है मामला

तस्वीर को हर्षदीप सिंह नाम के एक व्यक्ति ने लिया है, और इन्होंने इस घटना की डिटेल पर भी अपने लिंक्डइन अकाउंट पर साझा की है। तस्वीर में, हम एक व्यक्ति को अपने लैपटॉप पर काम कर रहे होंडा एविएटर पर बैठे हुए देख सकते हैं, स्कूटर सड़क के किनारे भीड़भाड़ वाले ट्रैफिक के बीच खड़ा है, और पीछे बैठा व्यक्ति अपने लैपटॉप पर काम कर रहा है।

इस तस्वीर के कैप्शन में हर्षदीप सिंह ने बताया कि उन्हें इस घटना पर कैसी प्रतिक्रिया देनी चाहिए- मजाक में या निराशा में। इस आदमी का उदाहरण और यातायात के बीच में काम करने की उसकी जल्दबाजी का हवाला देते हुए ये कहते हैं, कि कॉर्पोरेट क्षेत्र में काम को डेडलाइन पर खत्म करना जरूरी है।

यह भी पढ़ें :- Tata Nexon Electric Car के मालिक ने बताई बैटरी की कोस्ट, इतने किमी चलाने के बाद 7 लाख में होगी रिप्लेस

Viral Photo

भारत में बिगड़ता वर्क कल्चर

उनका कहना है कि अगर कोई बॉस अपने कर्मचारियों को काम के लिए धमका रहा है या उनकी सुरक्षा की कीमत पर लक्ष्य पूरा कर रहा है, तो ऐसे वर्क कल्चर पर विचार करने का समय आ गया है। उन्होंने यह भी उल्लेख किया है कि कार्यलय में बोले गए शब्द ‘यह जरूरी है’ और ‘इसे जल्द से जल्द करें’ अधिक सावधानी से उपयोग करना बेहतर है, क्योंकि इन शब्दों से कर्मचारियों के जीवन और मानसिक स्वास्थ्य पर प्रभाव पड़ रहा है।

Working Culture in India

नोट कुछ लोगों ने बताया कि महानगरों में कॉर्पोरेट जीवन भारत में कई युवाओं के लिए एक सपना हो सकता है, लेकिन उनमें से कई इस जीवन के अंधेरे पक्ष से अनजान हैं, जिसका वे इसमें प्रवेश करने के बाद सामना करते हैं। लंबे समय तक काम करना, असुरक्षित नौकरी अवधि और वरिष्ठों और सहकर्मियों से समर्थन मिल पाना कॉर्पोरेट जीवन में आम है। कुछ नेटिज़न्स ने यह भी कहा कि ऐसे प्रबंधक या टीम के नेता अमानवीय राक्षस हैं जो मानव जीवन को बिल्कुल भी महत्व या सम्मान नहीं देते हैं।

यह भी पढ़ें :- Toyota Land Cruiser Lc300 पहली बार सड़कों पर फर्राटे भरती आई नजर, लग्जरी कारों को कर देगी फेल!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

seven + 1 =

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments