Friday, October 7, 2022

CNG Car Mileage : अब बिना खर्च के बढ़ाएं CNG कारों का माइलेज, अपनाएं ये तरीकें और रहे बेफ्रिक

गलत टायर प्रेशर पर गाड़ी चलाने से टायर और सड़क के बीच घर्षण बढ़ जाता है। यह घर्षण इंजन पर दबाव डालता है, जिसके परिणामस्वरूप ईंधन की खपत ज्यादा होती है। इसलिए, टायर के दबाव को बार-बार जांचना बेहद जरूरी है।

पेट्रोल और डीजल के बढ़ते दामों के बीच सीएनजी कारों की मांग में इजाफा हो रहा है, और मांग को ध्यान में रखते हुए वाहन निर्माता कंपनियां प्रत्येक सेगमेंट की सीएनजी कारों पर फोकस कर रही हैं, आज बाजार में लगभग हर ब्रांड की सीएनजी कार मौजूद है, जिनमें टाटा और मारुति टॉप पर काबिज हैं। टाटा ने इस साल के शुरुआत में सीएनजी सेगमेंट में कदम रखा। वहीं मारुति इस रेंज की पुरानी खिलाड़ी है। तो सीएनजी कार तो खरीद ली लेकिन गिरते हुए माइलेज का क्या। जितना अधिक आप कार को चलाएंगे माइलेज उतना ज्यादा बढ़ जाएगा। लेकिन कई बार यह उल्टा पड़ जाता है, क्योंकि यह ज्यादात्तर निर्भर करता है, ड्राइविंग पर। तो आइए आपको आज कुछ ऐसे टिप्स बताएं जिससे आप सीएनजी कारों से पेट्रोल कारों की तुलना में 50 प्रतिशत तक अधिक माइलेज ले सकें।

एयर फिल्टर और टायर प्रेशर

सीएनजी हवा की तुलना में बहुत हल्की होती है, और एक गंदा एयर फिल्टर इसे आसानी से गुजरने नहीं देगा। इसलिए, हमेशा सुनिश्चित करें कि वायु-ईंधन अनुपात आदर्श में बने रहें। ऐसा तभी होगा जब आप अपनी कार के फिल्टर को हमेशा साफ रखेंगे। इसके अलावा टायर प्रेशर किसी भी कार के माइलेज का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, चारों टायर आपके वाहन और सड़क के बीच एकमात्र संपर्क हैं। गलत टायर प्रेशर पर गाड़ी चलाने से टायर और सड़क के बीच घर्षण बढ़ जाता है। यह घर्षण इंजन पर दबाव डालता है, जिसके परिणामस्वरूप ईंधन की खपत ज्यादा होती है। इसलिए, टायर के दबाव को बार-बार जांचना बेहद जरूरी है।

कार के क्लच की जांच करें

कार क्लच कार के ट्रांसमिशन के अंदर स्थापित एक friction disc है, घिसा-पिटा क्लच कार के माइलेज को काफी कम कर सकता है क्योंकि यह इंजन की पावर को पहियों में स्थानांतरित होने से रोकता है, जिसके परिणामस्वरूप कार कम माइलेज देती है, और ईंधन की ज्यादा बर्बादी होती है। इसलिए, आपको यह सुनिश्चित करना चाहिए कि आपका क्लच अच्छी स्थिति में है। कार में हुए माइक्रो लीक अक्सर अनिर्धारित हो जाते हैं। इसलिए आपको गैस की बदबू से सावधान रहना चाहिए। छोटा सा गैस रिसाव भी आपकी कार के माइलेज को काफी कम कर सकता है, इससे न सिर्फ माइलेज बल्कि आपकी सुरक्षा को भी खतरा बढ़ जाता है। तो गैस के रिसाव को जांचने के लिए एक गैस डिटेक्टर स्थापित करें, ताकि आपकी सीएनजी किट 100% रिसाव मुक्त रहे।

स्पार्क प्लग की जांच

सीएनजी वाहन का ज्वलन तापमान पेट्रोल कार की तुलना में अधिक होता है। इसलिए, सीएनजी कारों को प्रज्वलित करने के लिए एक मजबूत स्पार्क प्लग की आवश्यकता होती है। एक अच्छी गुणवत्ता वाला स्पार्क प्लग यह सुनिश्चित करेगा कि गैस ईंधन-वायु मिश्रण पूरी तरह से काम कर रहा है, इसके अलावा सुनिश्चित करें कि स्पार्क प्लग में वही कोड और हीट रेंज है जो कार निर्माता द्वारा निर्धारित की गई है। प्रत्येक 15000 या 20000 किमी के लिए स्पार्क प्लग को बदलें। जब आप अपनी कार की सर्विसिंग के लिए जाते हैं तो हमेशा किसी विशेषज्ञ से इसकी जांच करवाएं। इस टिप्स को अपनाने के अलावा आप नियमित रखरखाव, बेहतरीन इंजन ऑयल और अच्छी देखभाल के साथ आपकी सीएनजी कार का माइलेज बढ़ा सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

17 + seventeen =

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments