Tuesday, September 27, 2022

Car Loan Vs Personal Loan : क्या कार को खरीदने के लिए आप ले सकते हैं Personal Loan, जानिए दोनों के फायदे नुकसान

Car Loan एक सुरक्षित लोन हैं, यानी इसमें आपकी ब्याज दर भी कम होती है, और अगर आप बैंक का पैसा नहीं चुकाते हैं, तो ऋणदाता आपके वाहन को कब्जे में ले सकता है। दूसरी ओर Personal Loan आमतौर पर असुरक्षित होते हैं। तो पसर्नल लोन के ​जरिए कार खरीदना कितना सुरक्षित होता है। आइए बताते हैं?

Car Loan Vs Personal Loan : पुरानी कारों को खरीदने वाले लोगों की तादाद लगातार बढ़ रही है, और इसी बीच यूज्ड कार लोन की मांग में भी इजाफा देखा गया है। जाहिर है,कि आज कई प्राइवेट फाइनेंस कंपनियां और बैंक प्रत्येक कार खरीदार को लोन की सुविधा मुहैया कराते हैं, तो ज्यादा परेशानी का सामना नहीं करना पड़ता है। लेकिन अगर आपको कार लोन नहीं मिलता है, तो क्या आप पसर्नल लोन के ​जरिए कार खरीद सकते हैं। आइए बताते हैं?

यह भी पढ़ें :- घूस लेने वाला ट्रैफिक पुलिस अधिकारी सस्पेंड, 2,500 रुपये के चक्कर में गवाई नौकरी

Car Loan Vs Personal Loan

क्या होता है Personal Loan ?

पसर्नल लोन एक ऐसा लोन है, जिसका उपयोग लगभग किसी भी उद्देश्य के लिए किया जा सकता है। लोन प्रदाता आपसे पूछेंगे कि जब आप लोन के लिए आवेदन करते हैं तो धन का उपयोग किस लिए किया जाएगा और यहां आप अपनी जरूरत को बताकर बैंक से लोन ले सकते हैं।

Car Loan एक सुरक्षित लोन हैं, यानी इसमें आपकी ब्याज दर भी कम होती है, और अगर आप बैंक का पैसा नहीं चुकाते हैं, तो ऋणदाता आपके वाहन को कब्जे में ले सकता है। दूसरी ओर पसर्नल लोन आमतौर पर असुरक्षित होते हैं। इसका मतलब है कि उन्हें वापस करने के लिए कोई वस्तु या संपति नहीं होती है, जिसके चलते फाइनेंस दाता सीधा आप पर दबाव बना सकते हैं।

यह भी पढ़ें :- 2022 Maruti Brezza Top 5 Things : पहले से प्रीमियम हुई यह एसयूवी, 20.15kmpl माइलेज के साथ मिला सनरूफ का फीचर

Yamaha MT15

Personal Loan Vs Auto Loan

अगर आप पसर्नल लोन से कार खरीदना चाहते हैं, तो आपको बैंक, क्रेडिट यूनियन और ऑनलाइन ऋणदात को तलाशना होगा। इसके विपरित ऑटो लोन ढूंढना आसान हो सकता है। बैंक और प्राइवेट फाइनेंस कंपनियों के अलावा कई कार डीलरशिप भी कार लोन मुहैया कराती हैं। पसर्नल लोन ​आमतौर पर असुरक्षित होते हैं, इसलिए उधारदाताओं को अक्सर उन्हें जारी करने के लिए अधिक ब्याज दर देनी पड़ती हैं। उदाहरण के तौर पर देखें तो कार लोन की ब्याज दर 7 प्रतिशत से शुरू होती है, वहीं पसर्नल लोन की ब्याज दर 9 प्रतिशत के आसपास से शुरू होती है।

जैसा कि हमनें बताया कि कार लोन की तुलना में पसर्नल लोन में आमतौर पर बहुत अधिक ब्याज होता है। पर्सनल लोन या कार लोन के लिए आपको कुल ब्याज का भुगतान करना होगा, यह मुख्य रूप से आपकी क्रेडिट रेटिंग और क्रेडिट स्कोर द्वारा निर्धारित किया जाता है। आमतौर पर यह सलाह दी जाती है कि अगर आपकी क्रेडिट रेटिंग अच्छी है तो पर्सनल लोन चुनें और खराब क्रेडिट रेटिंग होने पर कार लोन चुनें। चूंकि कार लोन आम तौर पर वाहन की कुल लागत का केवल 80% कवर करता है, शेष 20% कार की लागत अधिक होने पर बड़ी राशि बन सकती है।

दूसरी ओर एक पर्सनल लोन आपको कार खरीदने के लिए आवश्यक कुल राशि का 100% प्रदान करेगा। एक अच्छी क्रेडिट रेटिंग यह सुनिश्चित करती है कि आपको एक ऐसा पर्सनल लोन मिले जो उचित ब्याज दर पर कार की पूरी लागत को कवर करता हो। अगर आपकी क्रेडिट रेटिंग खराब है, तो कार लोन लेने की सलाह दी जाती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि कार लोन में जोखिम की मात्रा बहुत कम होती है। बैंक और फाइनेंस कंपनियों को आमतौर पर कार लोन लेने में कोई बड़ी समस्या नहीं होती है।

यह भी पढ़ें :- 2022 Toyota Hyryder : टोयोटा ने उतारी मार्केट में अपनी सेल्फ चार्जिंग हाइब्रिड SUV, 25,000 रुपये से बुकिंग शुरू

Yamaha MT15

दोनों के अपने फायदे नुकसान

यहां ध्यान देने वाली बात यह है, कि कार लोन का उपयोग आप कार के अलावा और कुछ भी खरीदने के लिए नहीं कर सकते हैं, वहीं पर्सनल लोन का इस्तेमाल कार खरीदने के लिए किया जा सकता है और इसे आप अपनी इच्छानुसार किसी भी तरह खर्च कर सकते हैं। यदि आप कार के खर्च के अलावा अन्य खर्चों को भी साथ साथ संभालना चाहते हैं, तो पसर्नल लोन का विकल्प चुनना बेहतर है।

ध्यान दें, कि दोनों प्रकार के लोन की अवधि बहुत भिन्न होती है। पर्सनल लोन की अवधि 1 वर्ष से 5 वर्ष के बीच होती है जबकि कार लोन की अवधि 3 वर्ष से 7 वर्ष के बीच होती है। इन दोनों विकल्पों के अपने फायदे और नुकसान हैं। एक छोटी लोन अवधि का मतलब होगा कि आप प्राप्त किए गए ब्याज की कम राशि का भुगतान करेंगे। हालांकि छोटी अवधि का मतलब है कि EMI के रूप में भुगतान की जाने वाली राशि बहुत बड़ी होगी।

यदि आप कार खरीदने के लिए पसर्नल लोन का विकल्प चुन रहे हैं, तो कार ऋण की तुलना में सबसे बड़ा अंतर वाहन के स्वामित्व का है। चूंकि कार लोन सुरक्षित लोन हैं, वाहन का स्वामित्व आपको ऋण अवधि के पूरा होने के बाद ही ट्रांसफर किया जाएगा। पर्सनल लोन चुनने से कार खरीदते ही कार का मालिकाना हक तुरंत मिल जाएगा वहीं जब पर्सनल लोन की बात आती है तो डाउन-पेमेंट की कमी इसे पर विचार करने के लिए एक दिलचस्प विकल्प बनाती है।

नोट : अगर आपका क्रेडिट स्कोर अच्छा है, और आप कार खरीदने के लिए पसर्नल लोन पर विचार कर रहे है।, तो हमारी सलाह है,कि आप कार लोन के जरिए ही अपने वाहन को फाइनेंस कराएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

two × three =

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments